Saal Ke Pehle Surya Grahan Ka Sutak Kaal: 20 अप्रैल, दिन गुरुवार को साल का पहला सूर्य ग्रहण लगने जा रहा है। ऐसे में ज्योतिष एक्सपर्ट डॉ संजय आर शास्त्री जी से आइये जानते हैं कि कब से लगेगा पहले सूर्य ग्रहण का सूतक काल और किन-किन बातों को लेकर रहना होगा सावधान।

कब है साल का पहला सूर्य ग्रहण? (Surya Grahan 2023 Kab Hai)

साल 2023 का पहला सूर्य ग्रहण 20 अप्रैल 2023, दिन गुरुवार को पड़ेगा। सूर्य ग्रहण के समय की बात करें तो, इसका आरंभ 20 अप्रैल को सुबह 7 बजकर 4 मिनट से होगा और समापन दोपहर 12 बजकर 29 मिनट पर होगा।

क्या होता है सूतक काल? (What is Sutak Kaal in Hindi)

first solar eclipse  what to do

जब भी ग्रहण लगने वाला होता है तो उससे पहले के कुछ घंटे अशुभ माने जाते हैं क्योंकि उस दौरान व्यक्ति के आसपास नकारात्मकता (नकारात्मक ऊर्जा हटाने के उपाय) सबसे ज्यादा और अपने चरम पर होती है। यही समय सूतक काल कहलाता है। जब सूर्य ग्रहण लगता है तो उससे 12 घंटे पहले से सूतक लग जाते हैं और जब चंद्र ग्रहण लगता है तब 9 घंटे पहले से सूतक मान्य हो जाते हैं।

 

कब से लगेगा सूतक काल? (Sutak Kaal Timing On First Surya Grahan 2023)

चूंकि साल का पहला सूर्य ग्रहण 20 अप्रैल, दिन गुरुवार को 7 बजकर 4 मिनट से दोपहर 12 बजकर 29 मिनट तक रहेगा, ऐसे में 12 घंटे पहले यानी कि 19 अप्रैल, दिन बुधवार को सुबह 7 बजे से सूतक काल शुरू हो जाएगा। हालांकि यह सूतक काल मान्य नहीं होगा क्योंकि सूर्या ग्रहण का प्रभाव भारत में देखने को नहीं मिलेगा और सूतक काल तभी माना जाता है जब ग्रहण मान्य हो।

सूतक काल के दौरान क्या करें? (What to do in Sutak Kaal)

  • सूतक काल के दौरान मानसिक पूजा करें।
  • सूतक काल के दौरान मंत्रों का जाप करें।
  • सूतक काल के दौरान गर्भवती महिलाएं अपने पास नारियल रखें।
  • सूतक काल के दौरान गर्भवती महिलाएं पेट पर गेरू लगाएं।
  • सूतक काल के दौरान बीमार या बुजुर्ग की सेवा अवश्य करें।
  • सूतक काल के दौरान बच्चों से अपने इष्ट देव या देवी के मंत्रों का जाप करवाएं।

सूतक काल के दौरान क्या न करें? (What not to do in Sutak Kaal)

first solar eclipse  what not to do

  • सूतक काल के दौरान तुलसी को न छुएं।
  • सूतक काल के दौरान दूध का सेवन न करें।
  • सूतक काल के दौरान पूजा-पाठ (पूजा-पाठ में रखें इन नियमों का ध्यान) न करें।
  • सूतक काल के दौरान नए काम की शुरुआत न करें।
  • सूतक काल के दौरान गर्भवती महिलाएं घर से बाहर न निकलें।
  • सूतक काल के दौरान धारदार वस्तु जैसे चाकू, केंची आदि का प्रयोग न करें।