महबूबा मुफ्ती ने कश्मीर के पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक को भेजा नोटिस, यहां जानिए पूरा मामला

Homeदिल्लीजम्मू और कश्मीर

महबूबा मुफ्ती ने कश्मीर के पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक को भेजा नोटिस, यहां जानिए पूरा मामला

जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने सत्यपाल मलिक को एक नोटिस जारी किया है। इसके साथ ही उनपर अपमानजनक टिप्पणी करने की एवज में 10 कर

इन राशियों पर दिखेगा 2023 में साढ़ेसाती का असर, भूलकर भी न करें ये काम होंगे परेशान आइए जानते हैं डॉक्टर संजय आर शास्त्री से
आज से देश भर में सभी वाहनों के लिए फास्टैग अनिवार्य, नहीं होने पर देना होगा जुर्माना
सावधान…सावधान…सावधान….स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना को लेकर हालात बद से बदतर होने की आशंका जताई

जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने सत्यपाल मलिक को एक नोटिस जारी किया है। इसके साथ ही उनपर अपमानजनक टिप्पणी करने की एवज में 10 करोड़ का मुआवजा मांगा है।

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर में हो रही हत्याओं के साथ घाटी के कई अन्य मुद्दों पर पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक बीते कई दिनों से काफी मुखर हैं। वहीं अब जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने सत्यपाल मलिक को एक नोटिस भेज दिया है। नोटिस में मुफ्ती ने उनके खिलाफ कथित अपमानजनक टिप्पणी के लिए 10 करोड़ रुपए का मुआवजा मांगा है। इसके साथ ही पूर्व सीएम ने मलिक को 30 दिनों के भीतर मुआवजे का भुगतान करने या कानूनी कार्यवाही का सामना करने को कहा है।

महबूबा मुफ्ती ने मांगे 10 करोड़
बता दें कि हाल ही में महबूबा मुफ्ती ने सत्यपाल मलिक का एक वीडियो साझा किया था, जिसमें वो कह रहे हैं कि नेशनल कांफ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला, उनके बेटे उमर अब्दुल्ला और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती को रोशनी योजना के तहत जमीन के भूखंड मिले हैं। सत्यपाल मलिक का कहना है कि रोशनी अधिनियम को फारूक अब्दुल्ला सरकार द्वारा आरोपों के बदले राज्य की भूमि पर कब्जा करने वालों को मालिकाना अधिकार देने के उद्देश्य से लाया गया था।

उन्होंने बताया कि इस तरह से आए पैसे का उपयोग राज्य में पनबिजली संयंत्र स्थापित करने के लिए किया जाना था। हालांकि, जम्मू और कश्मीर उच्च न्यायालय द्वारा इसे अवैध घोषित करने के बाद योजना को भंग कर दिया गया था और सीबीआई को योजना के लाभार्थियों की जांच करने का निर्देश दिया था।

इसके साथ ही हाल ही में मेघालय के राज्यपाल ने एक कार्यक्रम में दौरान कहा कि उन्होंने कश्मीर का राज्यपाल रहते हुए अंबानी और आरएसएस के एक पदाधिकारी के इन्वालवमेंट वाली दो डील निरस्त की थी। इस डील के एवज में मुझे 150-150 करोड़ रुपए का ऑफर दिया गया था। इसके साथ ही महबूबा मुफ्ती की भी एक फाइल मेरे पास आई थी, हालांकि मुझे सरकारी सचिवों ने बताया कि दोनों फाइलों में घपला है तो मैंने डील निरस्त कर दी थी।

सत्यपाल मलिक के इन बयानों के बाद महबूबा मुफ्ती ने उन्हें नोटिस भेज दिया है। महबूबा का कहना है कि कश्मीर के पूर्व राज्यपाल ने उन पर कई गंभीर आरोप लगाकर उनकी छवि को नुकसान पहुंचाया है। पूर्व सीएम मुफ्ती ने यह भी साफ किया कि मुआवजे की रकम को वो जनता की भलाई के लिए खर्च करेंगी। गौरतलब है कि इससे पहले महबूबा ने मलिक से अपनी टिप्पणी वापस लेने के लिए कहा था।

COMMENTS