Homeअमेरिका

कब से शुरू हो रहा है हिन्दू नव वर्ष और क्या है इसका महत्व-आइए जानते हैं डॉ संजय आर शास्त्री

हिन्दू नव वर्ष जल्द ही शुरू होने को है। ऐसे में आइये जानते हैं पंचांग के अनुसार, हिन्दू न्यू ईयर की तिथि और महत्व के बारे में। अमूमन तौर पर

तुला वार्षिक राशिफल 2023 , शनि की ढैय्या से मिलेगी मुक्ति, ऐसा बीतेगा साल जानिए डॉक्टर संजय आर शास्त्री से
इस कोने में लगाएं घोड़े की नाल, गरीबी का नहीं देखना पड़ेगा मुंह-आइए जानते हैं डॉ संजय आर शास्त्री
गाय को इस समय खिलाएंगे रोटी तो दूर होंगी सारी परेशानियां, आइए जानते हैं डॉ संजय आर शास्त्री जी


हिन्दू नव वर्ष जल्द ही शुरू होने को है। ऐसे में आइये जानते हैं पंचांग के अनुसार, हिन्दू न्यू ईयर की तिथि और महत्व के बारे में


अमूमन तौर पर हम सभी 1 जनवरी को न्यू ईयर मनाते हैं। हालांकि इस दिन मनाया जाने वाला नया साल इंग्लिश कैलेंडर के अनुसार होता है। हिन्दू नव वर्ष की शुरुआत चैत्र माह के साथ होती है। चैत्र माह का आगमन मार्च के अंत या अप्रैल महीने की शुरुआत में होता है। यानी कि तब से जब से भारत में फाइनेंशियल ईयर आरंभ होता है। हमारे ज्योतिष एक्सपर्ट डॉ संजय आर शास्त्री से आइये जानते हैं कि कब से शुरू होने जा रहा है इस साल विक्रम संवत हिन्दू नव वर्ष और क्या है इसका महत्व।

हिन्दू नव वर्ष विक्रम संवत पर आधारित है। पंचांग के अनुसार, इस साल विक्रमी संवत 2080 हिन्दू नव वर्ष 22 मार्च 2023, दिन बुधवार (बुधवार के खास मंत्र) को मनाया जाएगा। हिन्दू नव वर्ष को और भी कई नामों से जाना जाता है जैसे कि, संवत्सरारंभ, वर्षप्रतिपदा, विक्रम संवत् वर्षारंभ, गुडीपडवा, युगादि आदि।

कौन है हिन्दू नव वर्ष का स्वामी
शास्त्रों में कुल 60 संवत्सर बताए गए हैं। ज्योतिष गणना के अनुसार, हिन्दू नव वर्ष का पहला दिन जिस भी दिवस पर पड़ता है पूरा साल उस ग्रह का स्वामित्व माना जाता है। इस साल हिन्दू नव वर्ष बुधवार के दिन से शुरू हो रहा है। ऐसे में बुध ग्रह इस पूरे साल के स्वामी माने जाएंगे।

हिन्दू नववर्ष का महत्व

हिन्दू नव वर्ष पूजा-पाठ के लिहाज से बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है। हिन्दू नव वर्ष की जब शुरुआत होती है तब चैत्र का महीने होता है और बसंत ऋतु का आगमन होता है। चैत्र माह और हिन्दू नव वर्ष का पहला त्यौहार नवरात्रि पड़ता है जिसमें 9 दिनों तक मां दुर्गा की पूर्ण श्रद्धा से पूजा की जाती है।
हिन्दू नव वर्ष से ही त्यौहारों की शुरुआत हो जाती है। हिन्दू नव वर्ष आध्यात्म का केंद्र माना जाता है। मान्यता है कि हिन्दू नव वर्ष के पहले दिन ही प्रभु श्री राम (श्री राम ने क्यों भोगा 14 वर्ष का ही वनवास) का राज्याभिषेक हुआ था। हिन्दू नव वर्ष के पहले दिन ही श्री राम ने बाली का वध किया गया था। युधिष्ठिर भी इसी दिन राजा बने थे।

इसी दिन से मां दुर्गा घर-घर में विराजती हैं और अपने भक्तों पर कृपा बरसाती हैं। हिन्दू नव वर्ष के प्रथम दिन ही ब्रह्मा ने इस ब्रह्मांड और सृष्टि का सृजन किया था। माना जाता है कि हिन्दू न्यू ईयर के पहले दिन की शुरुआत अगर भजन पूजा-पाठ से की जाए तो इससे पूरा साल शुभ परिणामों के आगमन से बीतता है।

बता दें कि हिन्दू कैलेंडर पूरी तरह से विज्ञान पर आधारित है। इसी कारण से अंतरिक्ष या किसी भी वैज्ञानिक अनुसंधान में हिन्दू पंचांग को इंग्लिश कैलेंडर के मुकाबले ज्यादा महत्व दिया जाता है। हिन्दू पंचांग के अनुसार, न सिर्फ तिथि का पता चलता है बल्कि ग्रह-नक्षत्रों की चाल और उनके हाल के बारे में भी जाना जा सकता है। हिन्दू नव वर्ष आध्यात्म के साथ-साथ वैज्ञानिक आधार भी रखता है।

COMMENTS